मंगलवार, 5 मई 2009

गीत ; सर्वत ज़माल

हम में बस यह अनुशासन है
चलते ही रहना जीवन है
तेज़ हवाएं क्या होती हैं
गर्म शिलाएं क्या होती हैं

वह क्या छान सकेंगे जंगल
जिनके पाँव तले है मखमल
हमसे पूछो जीवन गाथा
दंत कथाएं क्या होती हैं

पछुआ या पुरवाई कैसी
मरने में कठिनाई कैसी
चिंता ही इस युग में विष है
विष - कन्याएं क्या होती हैं

हक - अधिकार जताना सीखो
अब हथियार उठाना सीखो
हाथ बढाकर छीनो रोटी
मर्यादाएं क्या होती हैं ?

4 टिप्‍पणियां:

abhivyakti ने कहा…

आप की रचना प्रशंसा के योग्य है . लिखते रहिये
चिटठा जगत मैं आप का स्वागत है

गार्गी
www.abhivyakti.tk

Prem Farrukhabadi ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
Prem Farrukhabadi ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
इष्ट देव सांकृत्यायन ने कहा…

bahuta badhiya.

Blog Widget by LinkWithin